Advertisment

Relationship Tips : रिश्ते के टूटने की वजह कहीं इनसिक्योरिटी तो नहीं?

रिश्तों में इनसिक्योरिटी की समस्या काफी सामान्य है। कई बार विश्वास और सम्बंधों में संदेह होने के कारण यह समस्या उत्पन्न होती है। अच्छे संबंध बनाए रखने के लिए प्यार और विश्वास होना महत्वपूर्ण होती है।

author-image
Kavya Gupta
New Update
Relationship(FREEPIK)

(Image Source: freepik)

5 Sign Of Insecurity In Relationship: कपल का रिश्ता विशेष होता है, जिसमें दो व्यक्तियों के बीच में गहरा संबंध होता है। एक स्वस्थ कपल के बीच खुशहाली, सपोर्ट और समझौता होता है जो रिश्ता निभाने के लिए अहम होता है। कपल के बीच इनसिक्योरिटी हो सकती है, जो विभिन्न कारणों से हो सकती हैं जैसे कि संवेदनशीलता, भय, समय की कमी, किसी बात पर झगड़ा या विचारों का न मिलना आदि। अच्छे संबंध बनाए रखने के लिए अच्छी अंडरस्टैंडिंग, प्यार और अपने पार्टनर को समझने की ज़रुरत होती हैं। 

Advertisment

रिश्ते के टूटने की वजह कहीं इनसिक्योरिटी तो नहीं? आइए समझते हैं 

1. शक़ होना या करना

कपल के बीच शक़  होना एक इंसेक्योरिटी की निशानी हो सकता है। यह शक विभिन्न कारणों से हो सकता है, जैसे कि दूसरे संबंध, पिछले अनुभवों से भुगता डर या धोखा, या किसी की बेवजह शक़ करने की आदत। यह शक़ संबंध को दुखी और कमजोर बना सकता है। इसलिए, संबंध में सही समय पर खुले मन से बात करने और समझौता करना महत्वपूर्ण होता है।

Advertisment

2. बार बार प्यार का सबूत मांगना

कभी-कभी एक पार्टनर अपने साथी से बार-बार प्यार का सबूत देने की मांग करता है तो यह इंसेक्योरिटी की निशानी हो सकती है और ऐसे रिश्ते जल्दी ही टूटने की कगार पर पहुंच सकते है। यह दिखा सकता है कि वह अपने रिश्ते में अविश्वास या असुरक्षा महसूस कर रहा है। इस स्थिति में, संबंध को मजबूत करने के लिए आपस में बात करना और साथी के भावनाओं को समझना बहुत महत्वपूर्ण होता है। एक स्वस्थ संबंध में, दोनों पार्टनरों के बीच विश्वास को बढ़ा सकता है, जिससे इस प्रकार की इंसेक्योरिटी कम होती है।

3. खुद को बिलकुल भूल जाना

Advertisment

इस इनसिक्योरिटी में एक पार्टनर अपने आपको भूलकर दूसरे व्यक्ति को खो देने या उसे कंट्रोल करने के मकसद से सिर्फ अपने साथी को ही अपने जीवन का उद्देश्य मान बैठता है। इस तरह की इंसेक्योरिटी संबंध को मजबूत नहीं बनाती, बल्कि उसे और अधिक दूर ले जा सकती है। ऐसी स्तिथि में रिश्ता घुटन बन जाता हैं। संबंध में स्वस्थता को बनाए रखने के लिए, खुद को समझना और स्वीकार करना महत्वपूर्ण होता है। 

4. साथी के छोड़कर जाने का डर

साथी के छोड़कर जाने का डर इंसेक्योरिटी भले ही सामान्य निशानी हो लेकिन कई मामलों में यह हद पार कर सकती है। यह डर उस अवस्था को दर्शाता है जब व्यक्ति अपने साथी के रिश्ते को तोड़कर जाने जैसी चिंताओं में घिरा रहता है। उसे हमेशा यह दर रहता है की कही उसका पार्टनर उसे छोड़कर न चला जाए। इस तरह का डर संबंध को कमजोर बना सकता है और इंसेक्योरिटी को बढ़ा सकता है।

Advertisment

5. पुराने झगड़े को बार बार लाना

पुराने झगड़ों को बार-बार उठाना भी इंसेक्योरिटी की एक निशानी हो सकता है। यह दिखा सकता है कि एक या दोनों पार्टनरों के बीच में समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है और वे पुराने विवादों और झगड़ों को हल नहीं कर पा रहे हैं। यह स्थिति इंसेक्योरिटी और विश्वास के कमी को दर्शा सकती है, जिसे सही समय पर समझौता और संवाद से ठीक किया जा सकता है। संबंधों में सही समय पर समझौता करना और स्वीकार करना महत्वपूर्ण होता है, ताकि संबंध में समाधान हो सके।

relationship इनसिक्योरिटी रिश्ते Insecurity
Advertisment