Advertisment

Toy: बहुत जरूरी हैं बच्चों के लिए खिलौने, खरीदें सोच-समझकर

ब्लॉग | पेरेंटिंग : क्या आप जानते हैं बच्चों के उनकी उम्र के हिसाब से खिलौने भी बदलते रहते हैं? जी हां, जैसे-जैसे बच्चों का विकास होता जाता है उनके खिलौने भी बदलने होते हैं।

author-image
Prabha Joshi
New Update
खिलौने

बहुत जरूरी हैं बच्चों के लिए खिलौने (Image Credit: TV Bharatvarsha)

Toy: बचपन में बच्चों के लिए खिलौने बहुत महत्व रखने हैं। परेंट्स बच्चों को उनके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए खिलौने दिलाते हैं। बच्चे अपनी पसंद से खिलौनों को खरीदते हैं। खिलौनों का कलैक्शन न केवल बच्चों को खुश करता है बल्कि बच्चों के बचपन का भी विकास करता है। 

Advertisment

उम्र के अनुसार बदलते हैं खिलौने 

क्या आप जानते हैं बच्चों के उनकी उम्र के हिसाब से खिलौने भी बदलते रहते हैं? जी हां, जैसे-जैसे बच्चों का विकास होता जाता है उनके खिलौने भी बदलने होते हैं। जिस प्रकार हम जैसे-जैसे बड़े होते जाते हैं, हमारी समझ विकसित होती जाती है और हम उस हिसाब से काम करने शुरु कर देते हैं, उसी तरह बच्चों के साथ भी होता है। एक महीने का बच्चा, दो महीने का बच्चा और इस तरह जैसे-जैसे बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास होता जाता है, उसके खिलौने भी उस हिसाब से बदलते जाते हैं। बच्चों के बचपन में उनके खिलौने का बहुत महत्व होता है।खिलौने, pic credit ABP news

किस तरह करें खिलौनों का चुनाव 

Advertisment

खिलौने के चुनाव के लिए जरूरी है आप बच्चों को अपने साथ शॉपिंग के लिए ले जाएं। खिलौने बच्चे की पसंद के हिसाब से लें और इस बात का ध्यान रखें कि वो उसकी उम्र के अनुकूल हो। छोटे-छोटे बच्चे आवाजों और रंगों के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं। ऐसे में उन्हें उनके हिसाब से खिलौने खरीदकर दें।

अगर बच्चा अभी एक महीने से छोटा है तो उसके लिए खिलौने बहुत सिंपल से होते हैं। इस उम्र के बच्चों के लिए खिलौने बनाते समय इस बात का ध्यान रखा जाता है कि खिलौने किसी भी तरह उसको नुकसान न करें। मसलन इस उम्र का बच्चा खिलौनों को चबाता है। इससे टूटने वाली चीजें बच्चे के पेट में जा सकती हैं। ऐसे में खिलौने बहुत सावधानी से बनाए जाते हैं जिससे चीजें बच्चों के पेट में न जाएं और उन्हें अन्य तरह से नुकसान न पहुंचाएं। 

जोड़ने-तोड़ने वाले खिलौने रखते हैं महत्व 

वहीं जब बच्चा 3-4 महीने का हो जाए तो बच्चों को ऐसे खिलौने लाकर दें जिन्हें तोड़कर जोड़ा जाता हो। इससे बच्चे के मानसिक स्तर में बहुत अच्छा प्रभाव पड़ता है। बच्चा सोचता है और कम कर रहा होता है। उसे एल्फाबेट्स या नंबर्स से रिलेटिड खिलौने लाकर दे सकते हैं और सीरीज में लगाने को बोल सकते हैं। 

इस तरह बच्चों को खिलौने के जरिए उनके शारीरिक और मानसिक विकास में सहयोग करें। खिलौनों के जरिए आप बच्चे के विकास में बहुत अच्छा सहयोग कर सकती हैं। खिलौने खरीदते समय इस बात का खासा ख्याल रखें कि वो ब्रांडेट हों। आप चाहें तो घर पर भी बच्चों के लिए यूज्ड मैटेरियल से खिलौने तैयार कर सकती हैं। 

खिलौने Toy बच्चों
Advertisment