Advertisment

Parenting Tips: क्या आप जानते हैं गुस्से का बच्चों पर असर? जानें इसके 5 कारण

बच्चों की परवरिश में माता-पिता का रवैया बहुत महत्वपूर्ण होता है। अगर माता-पिता गुस्से में बच्चों से बात करते हैं या उन पर चिल्लाते हैं, तो इसका बच्चों पर गहरा असर पड़ता है। गुस्सैल पेरेंटिंग बच्चों के भावनात्मक विकास को प्रभावित कर सकती है।

author-image
Dibya Debasmita Pradhan
New Update
Angry parenting

Image Credit: Pinterest

How Angry Parenting Impacts A Child: बच्चों की परवरिश में माता-पिता का रवैया बहुत महत्वपूर्ण होता है। अगर माता-पिता गुस्से में बच्चों से बात करते हैं या उन पर चिल्लाते हैं, तो इसका बच्चों पर गहरा असर पड़ता है। गुस्सैल पेरेंटिंग बच्चों के मानसिक और भावनात्मक विकास को प्रभावित कर सकती है।

Advertisment

Parenting Tips: जानिए गुस्से का बच्चों पर 5 असर

1. प्रतिक्रिया और आक्रामकता

गुस्सैल अभिभावकता के कारण बच्चे अधिक प्रतिक्रियाशील और आक्रामक हो सकते हैं। जब बच्चे लगातार गुस्सा और चिल्लाना सहते हैं, तो वे भी अपने भावनाओं को इसी तरह व्यक्त करने लगते हैं। वे छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा हो जाते हैं और आक्रामक व्यवहार करने लगते हैं, जो उनके सामाजिक और व्यक्तिगत संबंधों को प्रभावित करता है।

Advertisment

2. आत्म-विश्वास में कमी

गुस्सैल अभिभावकता के कारण बच्चों का आत्म-सम्मान, आत्म-प्रेम और आत्म-विश्वास कम हो सकता है। जब बच्चे लगातार आलोचना और चिल्लाहट का सामना करते हैं, तो वे खुद को अयोग्य और अवांछित महसूस करने लगते हैं। इससे उनका आत्म-सम्मान और आत्म-विश्वास घटता है और वे खुद को कमतर समझने लगते हैं।

3. खुद को दोषी मानना

Advertisment

गुस्सैल अभिभावकता के कारण बच्चे अक्सर यह महसूस करने लगते हैं कि हर गलती उनकी ही है। वे अपने माता-पिता के गुस्से को अपनी गलती मानते हैं और हर चीज का दोष अपने ऊपर ले लेते हैं। इससे वे अंदर ही अंदर बहुत ज्यादा दोषी महसूस करने लगते हैं और अपनी भावनाओं को सही तरीके से व्यक्त नहीं कर पाते।

4. सीमाएं समझने में कठिनाई

गुस्सैल अभिभावकता के कारण बच्चों को सीमाएँ समझने और निर्धारित करने में कठिनाई हो सकती है। जब बच्चे अपने माता-पिता से डरते हैं, तो वे अपनी भावनाओं और जरूरतों को सही तरीके से व्यक्त नहीं कर पाते। वे यह नहीं समझ पाते कि किस हद तक उन्हें अपनी भावनाओं और विचारों को व्यक्त करना चाहिए और कब उन्हें रुक जाना चाहिए।

5. शर्म, दोष और डर का अनुभव

गुस्सैल अभिभावकता के कारण बच्चे अक्सर शर्म, दोष और डर का अनुभव करते हैं। वे हमेशा खुद को दोषी महसूस करते हैं और उन्हें हर समय यह डर रहता है कि वे कुछ गलत कर देंगे। यह बच्चों के मानसिक विकास को प्रभावित करता है और उन्हें जीवनभर के लिए भावनात्मक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

parenting tips गुस्सैल पेरेंटिंग भावनात्मक विकास आक्रामकता डर का अनुभव
Advertisment