Advertisment

Kiran Rao: जानिए 11 साल बाद करियर की नई शुरुआत पर क्या बोलीं किरण राव

फिल्म निर्माता किरण राव ने द रूलब्रेकर शो में शाइली चोपड़ा से बातचीत में मातृत्व, करियर ब्रेक के बाद वापसी की चुनौतियों और फिल्मों में महिला प्रतिनिधित्व पर खुलकर चर्चा की।

author-image
Vaishali Garg
New Update
Kiran Rao

Kiran Rao on Restarting Her Career After 11 Years: Motherhood, Challenges, and Representation: The Rulebreaker Show के नए एपिसोड में फिल्म निर्माता किरण राव होस्ट शैली चोपड़ा के साथ एक दिलचस्प बातचीत करती नजर आईं। इस चर्चा में उन्होंने मातृत्व की यात्रा, फिल्म इंडस्ट्री में वापसी की चुनौतियों और सिनेमा में महिलाओं के प्रतिनिधित्व के मुद्दों पर खुलकर चर्चा की। यह विचार-उत्तेजक बातचीत सामाजिक मानदंडों को तोड़ने और जीवन के किसी भी पड़ाव पर महिलाओं को अवसर प्रदान करने के महत्व पर प्रकाश डालती है। 

Advertisment

जानिए 11 साल बाद करियर की नई शुरुआत पर क्या बोलीं किरण राव

उम्र सिर्फ एक संख्या है

किरण राव ने तीस साल की उम्र के बाद अपने कलात्मक करियर को फिर से शुरू करने में आने वाली अनोखी चुनौतियों और अवसरों के बारे में खुलकर बात की। राव ने समाज के उस दबाव पर चिंता जताई जो कम उम्र में सफलता हासिल करने पर जोर देता है। उन्होंने कहा, "आजकल कम उम्र में चीजें हासिल करने पर बहुत जोर दिया जाता है। हमेशा युवाओं को मौका देने और युवा प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने की बात होती है।" राव का ये कहना उम्रदराज के खिलाफ एक मजबूत बयान है। 

Advertisment

हालांकि, राव का सफर इस बात का एक प्रेरक उदाहरण है कि रचनात्मकता और महत्वाकांक्षा का कोई समय नहीं होता। अपने अनुभव को साझा करते हुए उन्होंने कहा, "ज्यादातर लोगों के लिए, खासकर महिलाओं के लिए, इस तरह से करियर को फिर से शुरू करना असामान्य है।" उनका ये कहना फिल्म इंडस्ट्री की उस प्रवृत्ति की ओर इशारा करता है जहां उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं को किनारे कर दिया जाता है।

काम पर लौटने की जद्दोजहद

Advertisment

फिल्म निर्माण में वापसी पर चर्चा करते हुए राव ने उन कठिनाइयों को साझा किया जो कई महिलाओं को मातृत्व अवकाश या बच्चों की परवरिश के लिए करियर ब्रेक लेने के बाद फिर से कार्यक्षेत्र में लौटने पर आती हैं। उन्होंने कहा, "ज्यादातर महिलाओं का काम पर स्वागत नहीं किया जाता है, खासकर मातृत्व अवकाश लेने या बच्चों की परवरिश करने के बाद जब वे वापस काम करना चाहती हैं।" राव की ये सच बयां करती टिप्पणी कई पेशेवर क्षेत्रों में एक महत्वपूर्ण मुद्दे को रेखांकित करती है, जहां महिलाओं को पारिवारिक जिम्मेदारियों के लिए समय निकालने के बाद फिर से काम पर आने में अक्सर बाधाओं का सामना करना पड़ता है।

राव के लिए, फिल्म निर्माण में वापसी की राह आसान नहीं थी। "मैंने ब्रेक नहीं लिया था। मैं हर समय काम कर रही थी, लेकिन एक कलाकार के रूप में 12 या 13 साल बाद फिर से शुरुआत करना... यह असामान्य है।" उनका अनुभव इस बात पर प्रकाश डालता है कि लंबे समय बाद अपने करियर को फिर से स्थापित करने के लिए कितनी दृढ़ता और संकल्प की आवश्यकता होती है।

फिल्म इंडस्ट्री में सफल वापसी के लिए भाग्य की भूमिका को स्वीकार करते हुए राव ने कहा, "ईमानदारी से कहूं तो, मुझे इसे करने के लिए जगह मिलना मेरी किस्मत थी।" राव की ये बात उन कई महिलाओं की भावनाओं को दर्शाती है जो करियर ब्रेक के बाद फिर से काम शुरू करने के लिए संघर्ष करती हैं। उनका किस्सा समावेशी कार्यस्थल बनाने के महत्व को रेखांकित करता है, जहां महिलाओं का हर उम्र में स्वागत किया जाता है और उनका समर्थन किया जाता है।

फिल्मों में महिलाओं का प्रतिनिधित्व

अपने निजी अनुभव से आगे बढ़ते हुए, राव और चोपड़ा फिल्मों में महिला प्रतिनिधित्व के व्यापक मुद्दे पर बात करती हैं। राव का विश्लेषण मीडिया में महिलाओं के गलत और कम प्रतिनिधित्व की ओर ध्यान दिलाता है। अपने काम के माध्यम से इस धारणा को बदलने की उनकी प्रतिबद्धता इस बात का एक शक्तिशाली उदाहरण है कि कैसे फिल्म इंडस्ट्री के लोग बदलाव ला सकते हैं।

Kiran Rao The Rulebreaker Show Rulebreaker
Advertisment