How Winter Affect Period: क्यो सर्दी मे ज्यादा होते है पीरियड के लक्षण

कई महिलाएं ऐसा अनुभव करती हैं कि ठंड के दिनों में उनके पीरियड्स और पीएमएस के लक्षण बढ़ जाते हैं। जितनी परेशानियां पीरियड के दिनों में अन्य मौसम में होती है वह ठंड के दिनों में कहीं अधिक बढ़ जाती है।

Monika Pundir
07 Dec 2022
How Winter Affect Period: क्यो सर्दी मे ज्यादा होते है पीरियड के लक्षण

How Winter Affect Period

How Winter Affect Period: क्या सर्दियों में ज्यादा होते हैं पीरियड्स के लक्षण?

सर्दियों में ठंड के कारण संक्रमण और अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन क्या अधिक ठंड का असर महिलाओं के पीरियड साइकिल पर भी पड़ता है? कई महिलाएं ऐसा अनुभव करती हैं कि ठंड के दिनों में उनके पीरियड्स और पीएमएस के लक्षण बढ़ जाते हैं। जितनी परेशानियां पीरियड के दिनों में उन्हें अन्य मौसम में होती है वह ठंड के दिनों में कहीं अधिक बढ़ जाती है। आइए विस्तार से जानते हैं कि सर्दियों के मौसम में महिलाओं की पीरियड साइकिल पर क्या प्रभाव पड़ता है?

पीरियड पर कैसा होता है सर्दियों का प्रभाव?

सर्दियों में हमारा शरीर मौसम के हिसाब से ढलता है। सर्दियों का प्रभाव महिलाओं की पीरियड साइकिल पर भी पड़ता है। लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है कि यह बदलाव हर महिला को अनुभव हो। सर्दियों के मौसम में अधिक ठंड के कारण और शरीर में हो रहे हार्मोंस के उतार-चढ़ाव के कारण पीरियड्स के लक्षणों में बढ़ोतरी देखी जा सकती है।

अधिक ठंड के कारण महिलाओं की पीरियड साइकिल बढ़ जाती है और ओवुलेशन की फेज कम हो जाती है। महिलाओं को ठंड में पीएमएस के सिम्टम्स भी अधिक परेशान करते हैं। अधिक ठंड होने के कारण रक्त वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं जिस कारण रक्त प्रवाह प्रभावित होता है और यह महिलाओं के पीरियड साइकिल को भी प्रभावित करता है।

सर्दियों में ओवरी की गतिविधियां होती हैं कम

क्योंकि सर्दियों के मौसम में महिलाओं के पीरियड प्रभावित होते हैं, उनकी पीरियड साइकिल बढ़ जाती है और ओवुलेशन फेज कम हो जाती है। यही कारण है कि गर्मियों की तुलना में ओवरी की गतिविधियां सर्दियों के मौसम में कम हो जाती है। इस वजह से महिलाओं को पीरियड के दौरान होने वाली समस्याओं में भी बढ़ोतरी हो जाती है उन्हें पेट और कमर में अधिक दर्द होता है, ऐंठन की समस्या होती है, मूड स्विंग्स अधिक होते हैं और पेट में गैस आदि समस्याएं होती हैं।

पीएमएस लक्षणों में बढ़ोतरी

सर्दियों का प्रभाव महिलाओं के पीएमएस लक्षणों पर भी पड़ता है, यह सर्दियों में और बढ़ जाते हैं। क्योंकि सर्दियों में शारीरिक गतिविधियां अन्य मौसम के मुकाबले कम हो जाती हैं इसलिए पीएमएस सिम्टम्स पर सर्दियों का प्रभाव पड़ता है। इसके साथ ही अगर आप सर्दियों में पीरियड्स के दिनों में भारी काम करेंगे तो पीरियड में नजर आने वाले लक्षण और परेशानी और बढ़ जाएंगे।

कैसे करें इन परेशानियों को कंट्रोल?

सर्दियों में पीरियड्स और पीएमएस सिम्टम्स को कंट्रोल करने के लिए आपको सबसे पहले अपने वजन को नियंत्रण में करने की आवश्यकता है। सर्दियों में भी आपको अधिक तला भुना नहीं खाना है और पोष्टिक आहार लेना है। इसके साथ ही आपको शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी है, पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहना है और अपने शरीर को एक्टिव रखना है, जिसके लिए आप योग और कुछ रेगुलर एक्सरसाइज अपना सकते हैं।

Read The Next Article