Intermittent Fasting: कहीं वेट लॉस की जगह हो जाए न वेट गेन

Intermittent Fasting: कहीं वेट लॉस की जगह हो जाए न वेट गेन Intermittent Fasting: कहीं वेट लॉस की जगह हो जाए न वेट गेन

Apurva Dubey

17 Sep 2022

काफी लोगों का मानना है कि इंटरमिटेंट फास्टिंग उनके हेल्थ के लिए अच्छा है और वेट लॉस में सहायक भी है, जिसमें रोग की रोकथाम, बेहतर डाइजेशन और यहां तक ​​कि सूजन को कम करना शामिल है। वहीं दूसरी ओर कई लोगों के लिए समय पर भोजन करने और डाइट करने का कारण वजन कम करना ही होता है। इसलिए यदि आप यह मान रहे हैं कि आप वजन घटाने के उद्देश्य से इंटरमिटेंट फास्टिंग का उपयोग कर रहे हैं, तो जान लें कि इसे गलत तरीके से करना आपके लिए बहुत आसान है। रुक-रुक कर फास्टिंग करने की गलतियाँ करने से आपका वजन कम हो सकता है या आपका वजन भी बढ़ सकता है!

Intermittent Fasting: कहीं वेट लॉस की जगह हो जाए न वेट गेन

इंटरमिटेंट फास्टिंग एक ऐसी डाइट करने का तरीका है जिसमे लोग एक नार्मल टाइम पीरियड तक कोई भी फूड या कैलोरी इन्टेक नहीं करते और सिर्फ कुछ टाइम स्पेन में ही वह पुरे दिन के पर्याप्त कैलोरी को, जितना भी उनके शरीर की जरुरत है उसको पूरा करते हैं। जिसमें किसी के पास कोई कैलोरी या बहुत कम कैलोरी नहीं हो सकती है। सीधे शब्दों में कहें, इस डाइट में, आप हर दिन एक खाने के कार्यक्रम का पालन करते हैं, केवल एक निश्चित समय के दौरान निश्चित घंटों के दौरान भोजन का सेवन करते हैं, और फिर शेष घंटों के लिए उपवास करते हैं।

लेकिन यह प्रक्रिया अगर सही तरह से न की जाए तो इसके गलत परिणाम भी हो सकते हैं, यानि वेट लॉस की जगह वेट गेन भी हो सकता है! इस बात का ध्यान रखें।   

Intermittent Fasting के दौरान होने वाली गलतियां 

  • कम कैलोरी का सेवन: कम कैलोरी का सेवन करने से साइड इफेक्ट हो सकते हैं। यदि आप अपनी खाने में पर्याप्त मात्रा में कैलोरी नहीं खा रहे हैं, तो आप अपना वजन कम नहीं कर सकते हैं। उल्टा अगली बार भूक लगने पर आप जरुरत से ज्यादा खा सकते हैं और उसके बाद आप ज्यादा कैलोरी में वेट गेन कर लेते हैं। 
  • अतिरिक्त कैलोरी का सेवन: अपनी कैलोरी की मात्रा कम करें और अधिक फाइबर, प्रोटीन और पानी सहित संतुलित आहार का पालन करें।
  • प्रोटीन की कम खपत: मजबूती के लिए प्रोटीन सबसे जरूरी है और यह हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है। इसलिए कहते वक़्त प्रोटीन को शामिल जरूर करें, यह आपके कैलोरी काउंट को बनायें रखता है और साथ ही आपको पेट भरा भरा सा फील होता है।  
  • डिहाइड्रेशन: इंटरमिटेंट फास्टिंग का पालन करते हुए लोग रुक-रुक कर शराब पीने की भी प्रवृत्ति रखते हैं, जो पूरी तरह से कोई बड़ी बात नहीं है। हमेशा सुनिश्चित करें कि आप अपने भोजन के समय के बीच में पानी पीते रहें क्योंकि यह आपकी भूख को नियंत्रित करता है, और आपके डाइजेशन में हेल्प करता है।  
अनुशंसित लेख