Irregular Periods Cause: क्या आपके भी हो रहे मिस जाने क्या है वजह

पीरियड के अनियमित होने में सबसे बढ़ा कारण स्ट्रेस हैं। इससे हमारे होर्मोन भी बैलेन्स नहीं रहते है। इस कारण माहवारी में अनियमितता की समस्या आ सकती है। इसके साथ अगर महिलाएँ अपने खान-पान, वजन, मेंटल हेल्थ पर ध्यान नहीं तब भी ये हो सकते है।

Rajveer Kaur
23 Nov 2022
Irregular Periods Cause: क्या आपके भी हो रहे मिस जाने क्या है वजह

पीरियड अनियमित होने के बहुत कारण हो सकते हैं।यह आपका ख़राब आदतें और  लाइफ़स्टाइल भी हो सकता है जैसे देर रात तक जागना, जंक फ़ूड खाना, कसरत ना करना आदि शामिल होता है। इसके साथ हम स्ट्रेस भी बहुत ले लेते हैं। जिस कारण हमें माहवारी में अनियमितत्ता का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा और भी बहुत से से कारण है जिनसे हमारे पीरियड अनियमित हो जाते है जो हम आप को बताएँगे।

Irregular Periods Cause: क्या आपके भी हो रहे मिस जाने क्या है वजह 

अनियमित पीरियड्स, को ओलिगोमेनोरिया भी कहा जाता है।  यह एक ऐसी स्थिति जिसमें महिलाओं के पीरियड अनियमित हो जातें है जिसका मतलब उनके पीरियड मिस होने लगते है। एक सामान्य मेंस्ट्रुअल साइकिल में पीरियड्स के बीच का समय 21 से 35 दिनों के दौरान का होता है।   जब कोई साइकिल इनसे कम और ज्यादा दिनों तक होता माहवारी में तब अनियमितता आती हैं। 

स्ट्रेस (Stress)
पीरियड के अनियमित होने में सबसे बढ़ा कारण स्ट्रेस हैं। इससे हमारे होर्मोन भी बैलेन्स नहीं रहते है। इस कारण माहवारी में अनियमितता की समस्या आ सकती है। इसके साथ अगर महिलाएँ अपने खान-पान, वजन, मेंटल हेल्थ पर ध्यान नहीं तब भी ये हो सकते है। 

बर्थ कंट्रोल पिल्ज़ (Birth Control Pills)
अगर आप बर्थ कंट्रोल पिल्ज़ को लेते है तब भी आपके पीरियड इरेग्युलर हो सकते है। गर्भनिरोधक गोलियां बंद करने के बाद कुछ महिलाओं को छह महीने तक पीरिय्डस अनियमित हो सकते हैं ।

ख़राब लाइफ़्स्टायल (Lifestyle)
ख़राब लाइफ़्स्टायल भी आपके पीरियड अनियमित होने में बहुत योगदान देता है। इसमें देर रात तक जगान, कसरत ना करना, खाने-पीने की ग़लत आदतें, शराब पीना, वजन का बढ़ जाना और कम हो जाना, डाइयटिंग करना ये सब चीजें शामिल हैं। ये सब चीज़ें आपके पीरियड इरेग्युलर होने का कारण बन सकती है। 

Pelvic inflammatory disease (PID) 
यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें औरतों के प्रजनन अंग में इन्फ़ेक्शन हो सकती है। बैक्टीरिया यौन संपर्क के माध्यम से योनि में प्रवेश कर सकते हैं और फिर गर्भाशय और ऊपरी जननांग पथ में फैल सकते हैं। स्त्रीरोग संबंधी प्रक्रियाओं या बच्चे के जन्म, गर्भपात या गर्भपात के माध्यम से भी बैक्टीरिया प्रजनन पथ में प्रवेश कर सकते हैं।

Polycystic ovary syndrome (PCOS)
इस स्थिति में ओवरी में एंड्रोजन हॉर्मोन जिनमें मर्दों के गुण होते है पैदा होने लग जाते है। इससे अंडा बढ़ता नहीं है जिस कारन ओवुलेशन नहीं होती है। इस थिति में मोटापा, एक्ने, शरीर पर बालों की ग्रोथ ज्यादा होना ये सब लक्षण होने लगते है।  


अनुशंसित लेख