Period Myths: क्या आप भी मानती हैं पीरियड्स से जुड़े यह 7 मिथ?

पीरियड्स को लेकर ऐसे कई मिथक दादी और नानी के जमाने से चले आ रहे हैं जिनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है, फिर भी हम इन पर भरोसा करते हैं। क्या आप भी मानती हैं पीरियड्स से जुड़े यह 7 मिथ? जाने इनकी सच्चाई आज के इस ब्लॉग में-

Vaishali Garg
28 Dec 2022
Period Myths: क्या आप भी मानती हैं पीरियड्स से जुड़े यह 7 मिथ?

Period Myths

Period Myths: पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कई सारी चीजों को करने से मना किया जाता है पहले के समय में लोगों को इसकी सही जानकारी नहीं थी जिसके चलते कोई कुछ भी मान लेता था। तो आज हम कुछ ऐसे ही मिथकों के बारे में जानेंगे। जैसे कि "डिब्बे को छूना मत, अचार खराब हो जाएगा और वैसे भी इन दिनों तुम्हें खट्टी चीजें खाने से बचना चाहिए” ये कुछ ऐसे शब्द हैं जिन्हें आपने पीरियड के समय में लगभग हर लड़की ने अपनी मां से सुने होंगे। 

पीरियड्स को लेकर ऐसे कई मिथक दादी और नानी के जमाने से चले आ रहे हैं। इनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है, फिर भी हम इन पर भरोसा करते हैं। कोई कहता है, ठंडे पानी से मत नहाओ, तो कोई एक्सरसाइज करने के लिए मना करता है। कई जगहों पर तो इन दिनों में पेड़-पौधे तक को छूने से मनाही होती है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही Menstruation से जुड़े Myths के बारे में जिन्हें हम बेवजह सच मानकर बैठे हैं-

7 Alarming Myths About Periods That Needs To be Debunked

1. पीरियड्स में महिलाएं नहीं बाल धो सकती हैं 

शरीर की सफाई यानी हाइजीन को बरकरार रखने के लिए रोजाना नहाना जरूरी है। फिर चाहे उन दिनों आपके पीरियड्स ही क्यों न चल रहे हों। बाल धुलने से ब्लीडिंग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। पीरियड्स के दिनों में साफ सफाई का खास खयाल रखा जाना चाहिए वरना इंफेक्शन का खतरा बढ़ सकता है।

2. ज्यादा भागदौड़ या व्यायाम न करना

मासिक धर्म के दौरान लड़कियों को दौड़ने-भागने, खेलने-कूदने नाचने और एक्सरसाइज करने से मना किया जाता है। इसके पीछे तर्क दिया जाता है कि उन्हें दर्द कम होगा और आराम भी मिलेगा लेकिन यह सोच बिल्कुल गलत है। ज्यादा आराम करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक ढंग से नहीं हो पाता और दर्द भी ज्यादा महसूस होता है। खेलते-कूदते रहने और व्यायाम करने से ब्लड और ऑक्सीजन का प्रवाह सुचारू रूप से चलता रहेगा जिससे पेट दर्द या एंठन जैसी समस्याएं भी नहीं होंगी।

3. पीरियड्स में खट्टी चीजों को खाने से मना करना 

इन दिनों में खट्टी चीजें खाने से मना किया जाता है। हालांकि इन चीजों से परहेज जैसी कोई बात नहीं है। खट्टी चीजें विटामिन सी से भरपूर होती हैं जो इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करती है तो फिर ये कैसे नुकसानदेह साबित हो सकती हैं। बस, एक चीज़ का ध्यान रखें कि अति हर चीज की बुरी होती है। खट्टा खाएं लेकिन सीमित मात्रा में।

4. पीरियड्स के दौरान निकलने वाला खून गंदा होता है 

आज भी हमारी दादी-नानी इस बात पर कठोरता से यकीन करती हैं कि पीरियड्स का खून गंदा होता है। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। इस भ्रम को तोड़ने की जरूरत है। पीरियड का खून गंदा नहीं होता है और ना ही शरीर के किसी भी तरह के टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है। जो लोग इसे गंदा कहते हैं उन्हें समझना चाहिए कि यह एक शारीरिक प्रक्रिया है जिसके बारे में बात करने में किसी को शर्म नहीं आनी चाहिए।

5. पीरियड्स के दौरान आप प्रेग्नेंट नहीं हो सकते

यह पूरी तरह से सच नहीं है। Sex के दौरान अगर स्पर्म वजाइना के अंदर रह जाए तो सात दिनों तक जिंदा रहता है। यानी अगले सात दिनों तक प्रेग्नेंसी की संभावना बनी रहेगी। इसलिए पीरियड्स के दौरान भी सेफ तरीकों (condom)का इस्तेमाल करें।

6. पीरियड एक हफ्ते चलने ही चाहिए

ये धारणा भी मेडिकल नजरिए से सही नहीं है।पीरियड्स की अवधि वैसे तो सात दिनों तक मानी जाती है लेकिन कुछ महिलाओं को ये सिर्फ दो तीन दिनों तक ही रहता है और यह बिल्कुल सामान्य है।पीरियड का साइकिल समय कम से कम 5 दिन और ज्यादा से ज्यादा 7 दिन तक का हो सकता है।

7. पीरियड्स के दौरान स्विमिंग न करना 

पीरियड्स के दौरान स्विमिंग करना बिल्कुल सुरक्षित होता है। यह मिथक उस समय का था जब tampon या Menstrual Cup का विकल्प हमारे पास नहीं था।

Read The Next Article