Tulsi Vivah 2022: तुलसी( basil plant) विवाह के बाद से होगा शादियों का सीजन शुरू

Vaishali Garg
04 Nov 2022
Tulsi Vivah 2022: तुलसी( basil plant) विवाह के बाद से होगा शादियों का सीजन शुरू

Tulsi Vivah 2022 : हिन्दू पंचांग के अनुसार प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को तुलसी विवाह का आयोजन किया जाता है। इस एकादशी को देवउठनी एकादशी या प्रबोधिनी एकादशी भी कहा जाता है। इस बार तुलसी विवाह 5 नवंबर, शनिवार को पड़ रहा है। सनातन धर्म में तुलसी विवाह का विशेष महत्व माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार तुलसी विवाह के दिन माता तुलसी और भगवान शालिग्राम की पूजा करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और उनके वैवाहिक जीवन में सुख - समृद्धि आती है। साथ ही पति - पत्नी के बीच उत्पन्न होने वाली समस्याएं भी दूर हो जाती हैं।

Tulsi Vivah 2022: तुलसी विवाह के दिन जरूर ध्यान रखें इन बातों का

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दूध में हल्दी मिलाकर तुलसी और शालिग्राम को अर्पित करें। इससे देवी लक्ष्मी और श्रीहरि की कृपा प्राप्त होती है ।  तुलसी विवाह के बाद कोई भी वस्तु हाथ में लेकर तुलसी की 11 बार परिक्रमा करें।
  • तुलसी पूजा के बाद भगवान विष्णु को जगाने के लिए उनका आह्वान करें तुलसी पूजा में श्रृंगार और लाल रंग की चुनरी अर्पित करनी चाहिए।
  • प्रबोधिनी एकादशी के दिन शालिग्राम और तुलसी को तिल का भोग लगाया जाता है।

Tulsi Vivah 2022: तुलसी की परिक्रमा करें और दीपक जलाएं

अगर आपकी शादी में अड़च आ रही हैं तो आपको तुलसी विवाह के दिन तुलस जी के 3 बार चकर लगाने चाहिए। अगर आप तुलसी की परिक्रमा उसके चारों ओर घूम कर नहीं कर सकती हैं, तो आप जहां खड़े हो तथा जहां से तुलसी को जल चढ़ा रही हैं, वहीं पर 3 बार गोल गोल घूम लें। आपको तुलसी पर सुबह शाम घी का दीपक जलाना चाहिए। यदि आप ऐसा नियमित नहीं कर पा रही हैं तो तुलसी विवाह के दिन अवश्य करें।

Tulsi Vivah 2022: तुलसी के पानी से स्नान करें

तुलसी विवाह के दिन आप को तुलसी के पानी से नहाना चाहिए। इसके लिए आप को नहाने के पानी में तुलसी की 7 पत्ती डालना चाहिए। तुलसी के पानी से स्नान करना आपके स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हो सकता है।

Tulsi Vivah 2022: तुलसी विवाह के दिन जरूर करें यह उपाय

  1. कुंवारी कन्या तुलसी विवाह के दिन तुलसी पौधे को सजाएं तथा तुलसी जी को लाल रंग की चुनरी व चूड़ीया चड़ाएं। इससे आपको मन चाहे वर की प्राप्ति होगी।
  2. अगर किसी कन्या की शादी में रुकावट आ रही है, तो उसे तुलसी के पौधे पर श्रृंगार का सारा सामान चढ़ा कर किसी भी कन्या जिसका विवाह होने वाला हो, उसे भेंट करना चाहिए।
  3. तुलसी और शालिग्राम जी का विवाह कराएं। एकादशी के दिन तुलसी और शालिग्राम का विवाह कराने का विशेष महत्व है। इस दिन कन्या के माता पिता को अपने घर में तुलसी और शालिग्राम का विवाह करवाना चाहिए।
  4. इस दिन अगर आप किसी गरीब कन्या के विवाह में अपना योगदान देते हैं तो आपको मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

अनुशंसित लेख