Sex Addiction: क्या है, इसका क्या प्रभाव पड़ता है ?

ज़िंदगी में किसी भी चीज़ का अत्यधिक होना बुरा साबित हो सकता है इस तरह अगर आप सेक्स में ज्यादा ग्रस्त हो जाए यह भी बुरा साबित हो सकता है। आमतौर पर जिन लोगों में सेक्स की लत ज्यादा होती हैं उनमें असामान्य रूप से उच्च यौन इच्छा ज्यादा देखी जाती है

Rajveer Kaur
16 Nov 2022
Sex Addiction: क्या है, इसका क्या प्रभाव पड़ता है ?

Sex Addiction

सेक्स करना किसे अच्छा नहीं लगता है। जैसे हमें लाइफ बाकी चीज़ों की जरूरत है  वैसे ही हमें सेक्स की जरूरत होती है। यह हमारी मानसिक और शारीरिक सेहत दोनों के लिए बहुत फायदेमंद है। इसलिए इसका लाइफ में होना बहुत जरूरी है। आप ने यह तो सुना ही होगा कि ज़िंदगी में किसी भी चीज़ का अत्यधिक होना बुरा साबित हो सकता है इस तरह अगर आप सेक्स में ज्यादा ग्रस्त हो जाए यह भी बुरा साबित हो सकता है। आमतौर पर देखा जाए जिन लोगों में सेक्स की लत होती हैं उनमें असामान्य रूप से उच्च यौन इच्छा ज्यादा देखी जाती है और जो कभी-कभी बेकाबू हो जाती है।  

Sex Addiction: क्या है, इसका क्या प्रभाव पड़ता है ?

क्या होती है सेक्स कि लत?
सेक्स की लत एक ऐसी स्थिति जिसमें किसी व्यक्ति के दिमाग सेक्सुअल एक्टिविट्स ही रहती है उसके अपने यौन व्यवहार  पर नियंत्रण नहीं होता है। जो व्यक्ति इससे ग्रस्त होता है वह हर समय यौन क्रिया करने और इसके बारे में लगातार सोचता रहता है।

सेक्स की लत में शामिल गतिविधियां

-मैस्टर्बेशन के आदि होना
-ज़्यादा सेक्स पार्ट्नर होना 
-वलगर साहित्य पड़ना 
-सेक्स वर्कर के पास जाना
-ज़्यादा लोगों से मिलना नहीं बस सेक्स देखते रहना
-पोर्नोग्राफ़ी देखने की लत लग जाना

कैसा होता है व्यक्ति का व्यवहार
-जब व्यक्ति सेक्स ऐडिक्ट वह अपने सेक्स पार्ट्नर की इच्छाओं का सम्मान नहीं करता है। 
-नए लोगों से सम्बंध बनाने की आदत
-सेक्स की इच्छा को रोक ना पाना
-सेक्स से भावनात्मक रूप से मुक्ति नहीं मिलती
-सेक्स ऐक्टिविटीज़ में ही ग्रस्त रहना किसी और चीज़ की तरफ़ ध्यान ना जाना। 
-सेक्स के कारण समाजिक दूरी बना लेना

सेक्स एडिक्ट के लक्षण

सेक्सुअल थॉट्स का आना 
सेक्स की लत से  ग्रस्त व्यक्ति  सेक्स के बारे में लगातार सोचता रहता है। सेक्स या यौन कल्पनाओं के ये पुराने विचार जुनूनी हो सकते हैं या अन्य जिम्मेदारियों में बाधा डाल सकते हैं।

सेक्स पर अत्यधिक समय खर्च करना
जरूरी नहीं होता जिसे सेक्स की लत हो वह  सेक्स पर अत्यधिक समय और ऊर्जा खर्च कर रहा है।  यह अधूरा सच है।  इसमें सेक्स करने,  यौन होने या यौन अनुभवों से उबरने का प्रयास करने में समय व्यतीत करना शामिल हो सकता है।

शर्म या डिप्रेशन महसूस करना
यदि सेक्स की आवश्यकता लत में बदल जाती है, तो किसी की यौन भावनाओं को चिंता, शर्म, अवसाद या अफसोस की भावनाओं से भी जोड़ा जा सकता है। व्यक्ति सेक्सुअल विचारो और आग्रहों को नियंत्रित करने में कठिनाई समझता है और इस के बारे में शर्म महसूस कर सकता है।
पोर्नोग्राफ़ी देखने की लत लग जाना 

अनुशंसित लेख