Causes Of Miscarriage: क्या होता है मिसकैरेज और क्या है इसके कारण?

Published by
Muskan Mahajan

Causes Of Miscarriage:  मिसकैरेज तब होता है जब प्रेग्नेंसी के 20वें हफ्ते से पहले फिटस या एंब्रियो की मृत्यु हो जाती है। मिसकैरेज आमतौर पर प्रेग्नेंसी में जल्दी होता है। 10 में से 8 मिसकैरिज पहले 3 महीनों में होते हैं। अधिकांश मिसकैरेज इसलिए होते हैं क्योंकि एंब्रियो सही रूप और तरह से विकसित नहीं हो रहा है। मिसकैरेज होने के कई कारण हैं जैसे जीवनशैली, मोटापा, आदि। 

क्या होता है मिसकैरेज?

मिसकैरेज तब होता है जब प्रेग्नेंसी के 20वें हफ्ते से पहले फिटस या एंब्रियो की मृत्यु हो जाती है। बहुत से लोग इस तरह के प्रेग्नेंसी के नुकसान का अनुभव करते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान किसी भी समय मिसकैरेज या अनएक्सपेक्टेड प्रेग्नेंसी लॉस, आपकी गलती नहीं है। यह विशेष रूप से बहुत सी महिलाओं में पहली प्रेग्नेंसी में होता है। कभी-कभी महिला को पता ही नहीं चलता कि उसका मिसकैरेज हो गया है इसलिए मिसकैरेज के कुछ लक्षण। 

मिसकैरेज होने के बाद आपके पेट के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है, वजाइना से बेहता पानी, खून के दाग, आदि। वास्तव में 10-20% प्रेग्नेंसी मिसकैरेज में समाप्त होती हैं लेकिन भले ही मिसकैरेज सामान्य है, लेकिन यह भावनात्मक रूप से कठिन हो सकता है। प्रेग्नेंसी खोने के बाद दुःख और हानि की भावना सामान्य है।

1. थायरॉयड डिसऑर्डर

थायराइड हार्मोन बनाता है जो आपके शरीर को काम करने में मदद करता है। यदि थायरॉयड इन हार्मोनों का बहुत कम और बहुत अधिक उत्पादन करता है, तो आपको प्रेग्नेंसी के दौरान दिक्कत हो सकती है। ज्यादातर, थायराइड हार्मोन के अधिक उत्पादन और कम उत्पादन दोनों से ही कई परेशानियां हो सकती हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान अनुपचारित थायरॉइड की स्थिति गंभीर समस्याओं से जुड़ी होती है, जिसमें समय से पहले जन्म, मिसकैरेज और मृत जन्म शामिल हैं।

2. जेनेटिकली एबनॉर्मल प्रेग्नेंसी

पहली ट्रिमेस्टर में लगभग 50% मिसकैरेज एंब्रियो में क्रोमोसोम असामान्यता के कारण होते हैं। क्रोमोसोम हमारे शरीर की सेल्स में विरासत में मिली स्ट्रक्चर्स हैं। एक बच्चे के पास प्रत्येक क्रोमोसोम की दो कॉपी होती हैं – एक अंडे में जो मां से विरासत में मिली है, और दूसरी स्पर्म में जो पिता से विरासत में मिली है।

प्रत्येक क्रोमोसोम में सैकड़ों से हजारों जीन होते हैं, जो ग्रोथ और विकास के लिए जिम्मेदार होते हैं। एक ज्यादा क्रोमोसोम या एक लापता क्रोमोसोम मिसकैरेज का कारण बन सकता है, सीखने की कठिनाइयों या बौद्धिक अक्षमता और जन्म दोष वाले बच्चे को जन्म दे सकता है।

3. पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजिज

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) टेस्टोस्टेरोन के उच्च स्तर के कारण बार-बार मिसकैरेज का कारण बन सकता है। पीसीओएस से संबंधित इंसुलिन रेसिस्टेंस आपके यूटरस की लाइनिंग को भी प्रभावित कर सकता है। बैक्टेरियल इन्फेक्शन आपके या आपके साथी के जेनिटल ट्रैक्ट्स में रह सकते हैं। पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में प्रेग्नेंसी के शुरुआती महीनों में मिसकैरेज होने की संभावना तीन गुना अधिक होती है, बिना पीसीओएस वाली महिलाएं की तुलना में।

4. मोटापा

मोटापे तब डायग्नोसड होता है जब आपका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 30 या इससे अधिक होता है। उच्च बीएमआई होने से नॉर्मल ओव्यूलेशन को रोककर आपकी फर्टिलिटी क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है। यहां तक कि जो महिलाएं नियमित रूप से ओव्यूलेट करती हैं, उनका बीएमआई जितना अधिक होता है, प्रेग्नेंसी होने में उतना ही अधिक समय लगता है।

अगर आप मोटापे का शिकार हैं तो आपके लिए कंसीव करना काफी मुश्किल हो सकता है और अगर आप कंसीव करते लेते हैं तब उस प्रेग्नेंसी में मिसकैरेज और मृत जन्म का खतरा हो सकता है।

5. ब्लड डिसऑर्डर

रक्त क्लोटिंग डिसऑर्डर, जैसे सिस्टेमेटिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस और एंटीफॉस्फोलिपिड सिंड्रोम ‘चिपचिपा रक्त’ और बार-बार मिसकैरेज का कारण बन सकते हैं। इम्यून सिस्टम के ये रेयर डिसऑर्डर प्लेसेंटा में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करते हैं और क्लॉट्स का कारण बन सकते हैं जो प्लेसेंटा को ठीक से काम करने से रोकते हैं।

इसके साथ ही, थ्रोम्बोफिलिया एक स्वास्थ्य स्थिति है जो असामान्य रक्त क्लॉट्स के विकास के आपके जोखिम को बढ़ाती है। यदि आप प्रेग्नेंट हैं या प्रेग्नेंट होने की योजना बना रही हैं, तो थ्रोम्बोफिलिया मिसकैरेज और मृत जन्म सहित कई जटिलताएं पैदा कर सकता है।

Recent Posts

Deepika Padokone On Gehraiyaan Film: दीपिका पादुकोण ने कहा इंडिया ने गहराइयाँ जैसी फिल्म नहीं देखी है

दीपिका पादुकोण की फिल्में हमेशा ही हिट होती हैं , यह एक बार फिर एक…

2 days ago

Singer Shan Mother Passes Away: सिंगर शान की माँ सोनाली मुखर्जी का हुआ निधन

इससे पहले शान ने एक इंटरव्यू के दौरान जिक्र किया था कि इनकी माँ ने…

2 days ago

Muslim Women Targeted: बुल्ली बाई के बाद क्लबहाउस पर किया मुस्लिम महिलाओं को टारगेट, क्या मुस्लिम महिलाओं सुरक्षित नहीं?

दिल्ली महिला कमीशन की चेयरपर्सन स्वाति मालीवाल ने इसको लेकर विस्तार से छान बीन करने…

2 days ago

This website uses cookies.