Advertisment

रिश्ते में Detachment का हुनर जरूर सीखें महिलाएं

रिलेशनशिप में जितनी जल्दी हम अटैचमेंट सीखते हैं, उतना ही समय खुद को अलग करने में लग जाता है जिसे हम डिटैचमेंट भी कहते हैं। खासकर महिलाओं को रिश्ते में इसलिए रहना पड़ता है क्योंकि उन्हें अलग होने से डर लगता है।

author-image
Rajveer Kaur
New Update
relationship

Women Need To Develop The Ability To Be Detached In Relationships: रिलेशनशिप में जितनी जल्दी हम अटैचमेंट सीखते हैं, उतना ही समय खुद को अलग करने में लग जाता है जिसे हम डिटैचमेंट भी कहते हैं। यह रिलेशनशिप का सबसे मुश्किल समय होता है जब हमें पार्टनर से खुद को अलग करना पड़ता है। कई बार रिलेशनशिप में ऐसी परिस्थितियों बन जाती है जिसके कारण यह आगे नहीं चल सकता। खासकर महिलाओं को रिश्ते में इसलिए रहना पड़ता है क्योंकि उन्हें अलग होने से डर लगता है। आज हम जानेंगे कि क्यों महिलाओं को डिटैचमेंट का हुनर सीखना जरूरी है ताकि टॉक्सिक रिलेशनशिप में से बाहर निकलना उनके लिए आसान हो जाए।

Advertisment

रिश्ते में Detachment का हुनर जरूर सीखें महिलाएं

रोमांटिक रिलेशनशिप में अपने पार्टनर को जाने देना बहुत ज्यादा कठिन लगता है। कई बार हम इसे सहन नहीं कर पाते हैं जिसके कारण हम स्ट्रेस या फिर डिप्रेशन में चले जाते हैं लेकिन यह सीखना बहुत जरूरी है। एक गलत रिलेशनशिप आपकी पूरी जिंदगी को खराब कर सकता है। इससे आपकी फिजिकल और मेंटल हेल्थ दोनों प्रभावित हो सकती हैं।

आसानी से जाने देने के लिए रिश्ते में करें ये चीजें प्रैक्टिस 

Advertisment
  • अपेक्षा करना छोड़ दें: अपने पार्टनर से बहुत सारी अपेक्षाएं होती हैं तभी उनसे  अलग होना मुश्किल हो जाता है। इसलिए आप अपेक्षा करना छोड़ दे। आप हर सिचुएशन पर इस बात का अपेक्षा लगाना छोड़ दे कि आपका पार्टनर को इस तरह या इस तरीके से रिएक्ट करना चाहिए था। जब हम पार्टनर से बहुत ज्यादा अपेक्षाएं करने लग जाते हैं तब हम भावनात्मक तौर पर जुड़ हो जाते हैं। इसके कारण बाद में अलग होने में बहुत मुश्किल आती है।
  • बदलने की कोशिश मत करें: महिलाएं अपने पार्टनर को बदलने की कोशिश मत करें क्योंकि आप किसी के बिहेवियर को बदल नहीं सकते हैं। इससे आप अपनी एनर्जी बर्बाद कर रहे हैं। इससे आपको स्ट्रेस हो सकता है। इसलिए आप स्थिति को स्वीकार करें और आगे बढ़ाने के बारे में सोचे। जब हम चीजों को ठीक करने में लग जाते हैं तब भी हम इसे बाहर नहीं निकाल पाते हैं। इसलिए अगर आप चीजों को जाने देना चाहते हैं या फिर खुद को उनसे अलग करना चाहते हैं तो आपको उन्हें बदलने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।
  • अपनी भावनाओं को स्वीकार करें: अपनी भावनाओं को अंदर दबाकर मत रखें। आपको हमेशा अपनी भावनाओं को स्वीकार करना चाहिए। आप इस बात पर ध्यान दें कि आप कैसा महसूस कर  रहे हैं और उसे व्यक्त भी करें। जब आप अपनी भावनाओं को स्वीकार करते हैं तब आपका स्ट्रेस की खत्म हो जाता है और आप मानसिक तौर पर मजबूत बनते हैं। आप सही फैसला लेने में सक्षम हो जाते हैं। आपको अपने किसी भी इमोशंस को लेकर बुरा महसूस करने की जरूरत नहीं है। यह सब नॉर्मल है और हर किसी के साथ होता है।
  • Boundaries बनाएं: रिलेशनशिप में बाउंड्रीज बनाना बहुत जरूरी है जब हम बाउंड्री नहीं बताते हैं तो लोग हमें फॉर ग्रांटेड ले लेते हैं। उन्हें लगता है कि हम जैसे चाहे वैसे इस्तेमाल कर सकते हैं और आपकी वैल्यू का ध्यान रखना भूल जाते हैं। वह आपकी पर्सनल स्पेस में इंटर करते हैं। उन्हें इस बात का एहसास भी नहीं होता है कि वो आपको अनकंफरटेबल कर रहे हैं।
  • निर्भर मत बनें: आपको निर्भर नहीं बनना चाहिए। जब आप अपनी हर छोटी से लेकर बड़ी बात तक पार्टनर के ऊपर निर्भर होते हैं तब आपको उनकी आदत हो जाती है और आपको उनको छोड़ना बहुत कठिन होता है। इसलिए आप बहुत कम चीजों पर उनके ऊपर निर्भर होइए और अपने सभी काम खुद करने की कोशिश करें। जब आपकी निर्भर का पार्टनर इस वजह से आपका उनसे अलग होना मुश्किल हो सकता है क्योंकि आपको इतना कॉन्फिडेंस नहीं होगा कि आप अपनी जरूरत का ख्याल रख सकते हैं या नहीं।
Advertisment