Advertisment

Study: कैंसर से मौत में सबसे आगे काली महिलाएं, क्यों?

अमेरिका में काली महिलाओं में कैंसर से मृत्यु दर सबसे अधिक है। जानिए क्यों और अमेरिकन कैंसर सोसायटी के "वॉयसेज ऑफ ब्लैक वूमेन" नामक नए अध्ययन के बारे में, जो इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश कर रहा है।

author-image
Vaishali Garg
New Update
Cancer(Freepik)

Why Black Women Have Highest Cancer Death Rates?संयुक्त राज्य अमेरिका में काली महिलाओं में सभी प्रकार के कैंसर से मृत्यु दर सबसे अधिक है। महामारी विज्ञान के इतिहास में यह एक चिंताजनक तथ्य है, जिसने वैज्ञानिकों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के बीच गंभीर चिंता पैदा कर दी है। 

Advertisment

असल सवाल यह है कि गोरी महिलाओं की तुलना में काली महिलाओं में कैंसर से मरने का खतरा इतना अधिक क्यों होता है? इस सवाल का जवाब ढूंढने के लिए अमेरिकन कैंसर सोसायटी (ACS) ने "वॉयसेज ऑफ ब्लैक वूमेन" नामक एक विशाल अध्ययन शुरू किया है।

काली महिलाओं में कैंसर से मृत्यु दर सबसे ज्यादा: क्यों? 

जांच का तत्काल होना जरूरी 

Advertisment

काली महिलाओं में कैंसर से मृत्यु दर इतनी अधिक होने के पीछे के कारणों को समझने की तत्काल आवश्यकता है। चौंकाने वाली बात यह है कि काली महिलाओं में न सिर्फ पेट के कैंसर सहित कुछ विशेष प्रकार के कैंसर होने की संभावना अधिक होती है, बल्कि इन बीमारियों से मृत्यु दर भी काफी ज्यादा होती है। उदाहरण के लिए, ACS की रिपोर्ट के अनुसार, काली महिलाओं में गोरी महिलाओं की तुलना में पेट का कैंसर होने का दुगना खतरा होता है और इससे मरने का भी 2.3 गुना ज्यादा खतरा होता है।

महिलाओं पर किए जाने वाले अध्ययन न सिर्फ खुद को सशक्त बनाने का एक जरूरी कदम हैं, बल्कि स्वास्थ्य असमानताओं को समझने और दूर करने की दिशा में भी एक ठोस कदम हैं। इस परिवर्तनकारी प्रयास में भाग लेने के लिए कुछ खास मानदंडों को पूरा करना जरूरी है। इसमें शामिल होने वाली महिलाओं की उम्र 25 से 55 के बीच होनी चाहिए, उन्हें पहले कभी कैंसर नहीं हुआ हो (बेसल और स्क्वैमस सेल स्किन कैंसर को छोड़कर) और वे अध्ययन के लिए चुने गए 20 राज्यों में से किसी एक राज्य की निवासी हों।

एक समावेशी अध्ययन 

Advertisment

यह अध्ययन समावेशिता और प्रतिनिधित्व पर ध्यान केंद्रित करते हुए 30 वर्षों में 25 से 55 आयु वर्ग की 1,000,000 काली महिलाओं से जुड़े आख्यानों को इकट्ठा करने का लक्ष्य रखता है। ACS में जनसंख्या विज्ञान की वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ. अल्पा पटेल इस अध्ययन के बहुआयामी दृष्टिकोण को स्पष्ट करती हैं। यह अध्ययन प्रतिभागियों के जीवन के विभिन्न पहलुओं, जैसे चिकित्सा इतिहास, सामाजिक-आर्थिक स्थिति, पर्यावरणीय प्रभाव और जीवनशैली कारकों को गहराई से खंगालेगा।

चिकित्सा विज्ञान में प्रगति के बावजूद, काली महिलाओं को कैंसर होने और उससे मृत्यु दर का आज भी अधिक खतरा रहता है। डॉ. पटेल स्वास्थ्य संबंधी असमानताओं के बहुआयामी स्वरूप को स्वीकार करते हुए उच्च गुणवत्ता वाली चिकित्सा देखभाल तक पहुंच में मौजूद व्यवस्थागत असमानताओं को दूर करने की आवश्यकता पर बल देते हैं। केवल स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच से परे, यह अध्ययन आहार, आय, तनाव, मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक समर्थन जैसे कारकों के जटिल अंतर्संबंधों को खंगालना चाहता है, जो काली महिलाओं के स्वास्थ्य परिणामों को निर्धारित करते हैं।

भाग लेने का क्या मतलब है? 

Advertisment

"वॉयसेज ऑफ ब्लैक वूमेन" अध्ययन में भाग लेने वाली महिलाओं की खोज का सफर बहुआयामी और गहन आत्मनिरीक्षण वाला है। द्विवार्षिक सर्वेक्षणों के माध्यम से, महिलाओं को अपने जीवन के अनुभवों का बारीक ब्योरा साझा करने के लिए आमंत्रित किया जाता है, जिसमें बचपन की यादों से लेकर वयस्क जीवन की वास्तविकताओं तक सब कुछ शामिल है। हर कहानी, हर किस्सा और हर अंतर्दृष्टि ज्ञान के भवन में एक महत्वपूर्ण ईंट के रूप में कार्य करता है, जिस पर भविष्य में कैंसर की रोकथाम और उपचार में प्रगति की नींव रखी जाएगी।

अमेरिकन कैंसर सोसायटी का कहना है कि यह अध्ययन इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि "पीढ़ियों से, काली महिलाओं को महत्वपूर्ण स्वास्थ्य शोध में समान रूप से शामिल नहीं किया गया है, जिसके परिणामस्वरूप काली महिलाओं के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी की कमी है।"

इस अध्ययन से प्राप्त आंकड़ों का विश्लेषण कर शोधकर्ता कैंसर से होने वाली मौतों के जोखिम कारकों को कम करने के लिए रणनीतियां विकसित कर सकेंगे। साथ ही, वे यह भी समझ पाएंगे कि सामाजिक और आर्थिक असमानताएं स्वास्थ्य परिणामों को कैसे प्रभावित करती हैं।

वॉयसेज ऑफ ब्लैक वूमेन अध्ययन का लक्ष्य न केवल यह समझना है कि काली महिलाओं में कैंसर का खतरा अधिक क्यों होता है, बल्कि उनके स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार के लिए ठोस कदम उठाना भी है।

कैंसर cancer Black Women
Advertisment