Depression During Pregnancy: प्रेगनेंसी में डिप्रेशन है खतरनाक

Depression During Pregnancy: प्रेगनेंसी में डिप्रेशन है खतरनाक Depression During Pregnancy: प्रेगनेंसी में डिप्रेशन है खतरनाक

Apurva Dubey

23 Sep 2022

दुखी होना उदास होने जैसा नहीं है। डिप्रेशन एक ऐसा शब्द है जिसका इस्तेमाल अक्सर यह बताने के लिए किया जाता है कि काम के खराब सप्ताह के बाद या जब हम ब्रेकअप से गुजर रहे होते हैं तो हम कैसा महसूस करते हैं। लेकिन कई बार प्रेगनेंसी के दौरान हो रहे हार्मोनल बदलाव भी महिलाओं में डिप्रेशन पैदा कर सकते हैं। अगर आप प्रेग्नेंट हैं तो किसी भी तरह के नकारात्मक सोच से दूर रहे, क्योंकि डिप्रेशन आपकी अवस्था को ख़राब कर सकता है। इससे आपके बच्चे और आपकी सेहत को भी भरी नुक्सान पहुँचता है।  

Depression During Pregnancy: प्रेगनेंसी में डिप्रेशन है खतरनाक 

अक्सर हार्मोनल बदलाव से आप बीमार रह सकते हैं और प्रेगनेंसी में यह बहुत ही कॉमन है। ऐसे में कई बार नेगेटिविटी आपके सामने आती है पर उससे घबराएं नहीं बल्कि उससे लड़ना सीखे। अगर आप सभी नेगेटिव विचारों को मन में बैठायेंगी तो आपको डिप्रेशन होना तय है। प्रेगनेंसी में कोशिश करें कि हमेशा खुश रहें।  

गर्भावस्था के दौरान एक महिला की खुद की देखभाल करने की क्षमता को प्रभावित करना। वे चिकित्सा सिफारिशों का पालन करने और सोने और ठीक से खाने में कम सक्षम हो सकते हैं।

डिप्रेशन से नशे की लत लग सकती है 

एक महिला को तंबाकू, शराब, और/या अवैध ड्रग्स जैसे पदार्थों का उपयोग करने के लिए प्रेरित करना, जो बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। बच्चे के साथ बंधन बनाना मुश्किल हो जाता है। गर्भावस्था का महिलाओं में अवसाद पर प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे में महिलाओं को नशे की लत लग सकती है। जो प्रेगनेंसी में बच्चे को तो नुक्सान पहुंचती है साथ ही होने वाली माँ कि शरीर को भी अंदर से खोखला कर देती है। 

प्रेगनेंसी का डिप्रेशन डिलीवरी कि बाद और भी बुरा रूप ले सकता है 

गर्भावस्था के दौरान अवसाद प्रसव के बाद अवसाद के जोखिम को बढ़ा सकता है (जिसे प्रसवोत्तर अवसाद कहा जाता है)। इसीलिए अपने प्रेगनेंसी की जर्नी को ख़ुशी और पाजिटिविटी के साथ बिताएं। अपने दोस्तों, अपने साथी और अपने परिवार से बात करें। यदि आप समर्थन मांगते हैं, तो आप पाएंगे कि आपको अक्सर मिल जाता है।

पार्टनर का साथ करेगा सब आसान 

जी हां! अगर आपको अकेलापन सता रहा है तो इससे आपका डिप्रेशन बढ़ सकता है। इसीलिए एक पार्टनर की यह जिम्मेदारी बनती है की वह आपकी प्रेग्नेंट पत्नी का खास ख्याल रखें। प्रेगनेंसी के दौरान कपल को हर काम बाँट कर करना चाहिए, जिससे प्रेग्नेंट महिला को अकेलापन या बोझ न सताये।    

अनुशंसित लेख