Advertisment

आपका मासिक धर्म चक्र आपकी Skin को कैसे प्रभावित करता है?

बल्कि यह आपकी त्वचा के स्वास्थ्य पर भी गहरा प्रभाव डालता है। पूरे चक्र के दौरान आपके हार्मोनों के स्तर में उतार-चढ़ाव होता रहता है, जो आपकी त्वचा के दिखने और महसूस करने के तरीके को प्रभावित करता है। 

author-image
Anusha Ghosh
New Update
png 54379

(Credit : Healthline)

Skin: आपका मासिक धर्म चक्र सिर्फ आपके गर्भाशय को ही प्रभावित नहीं करता, बल्कि यह आपकी त्वचा के स्वास्थ्य पर भी गहरा प्रभाव डालता है। पूरे चक्र के दौरान आपके हार्मोनों के स्तर में उतार-चढ़ाव होता रहता है, जो आपकी त्वचा के दिखने और महसूस करने के तरीके को प्रभावित करता है। 

Advertisment

आइए जानते हैं मासिक धर्म चक्र आपकी त्वचा को कैसे प्रभावित करता है  

1. पीरियड्स (दिन 1 से 6)

इस दौरान एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टरोन का स्तर सबसे कम होता है। नतीजतन, आपकी त्वचा शुष्क और संवेदनशील महसूस हो सकती है। इसके अलावा, प्रोस्टाग्लैंडिन नामक हार्मोन जैसे पदार्थ बढ़ जाते हैं, जो त्वचा को अतिरिक्त कोमल बना सकते हैं। इस समय आपकी त्वचा पर रूखापन, बेजानपन या झुर्रियां अधिक दिखाई दे सकती हैं। इस दौरान आप क्या कर सकती हैं? कोमल मॉइस्चराइज़र और हाइड्रेटिंग उत्पादों का इस्तेमाल बढ़ाएं। किसी भी कठोर उपचार से बचें।

Advertisment

2. फॉलिक्युलर फेज़ (दिन 7 से 11)

पीरियड्स खत्म होते ही, एस्ट्रोजन का उत्पादन फिर से शुरू हो जाता है और यह कोशिका टर्नओवर को बढ़ावा देता है। इसका मतलब है कि त्वचा की मृत कोशिकाएँ तेजी से निकलती हैं और नई कोशिकाएँ बनती हैं, जिससे आपकी त्वचा में चमक आ सकती है। इस दौरान आप क्या कर सकती हैं? इस समय सेल टर्नओवर को बढ़ावा देने के लिए फेशियल या केमिकल पील करवाना फायदेमंद हो सकता है। यह उपचार रोमछिद्रों को साफ रखने में भी मदद करते हैं।

3. ओवुलेशन (दिन 12 से 16)

Advertisment

ओवुलेशन के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर अपने चरम पर होता है। यह वही समय होता है जब आपकी त्वचा सबसे अधिक दमकती हुई नज़र आती है। एस्ट्रोजन प्राकृतिक रूप से त्वचा को हाइड्रेटेड और कोलेजन उत्पादन को बढ़ावा देता है, जिससे आपकी त्वचा मजबूत और अधिक लोचदार बनती है। इस दौरान आप क्या कर सकती हैं? इस सुनहरे समय का फायदा उठाएं और कम से कम मेकअप करें। अपनी त्वचा की प्राकृतिक चमक को बरकरार रखने के लिए हल्का मॉइस्चराइज़र लगाएं।

4. ल्यूटियल फेज़ (दिन 17 से 28)

इस चरण में प्रोजेस्टरोन का स्तर अपने चरम पर होता है। प्रोजेस्टरोन वसामु (सीबम) ग्रंथियों को उत्तेजित करता है, जिससे तैलीय त्वचा और मुंहासे जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आपकी त्वचा पहले से अधिक चिकनाई महसूस हो सकती है। इस दौरान आप क्या कर सकती हैं? तैल को नियंत्रित करने वाले उत्पादों का इस्तेमाल करें। मुंहासों के लिए सैलिसिलिक एसिड युक्त क्लींजर या लोशन लगा सकती हैं।

Advertisment

5. हर चरण के लिए अलग देखभाल

यह समझना ज़रूरी है कि हर महिला का मासिक धर्म चक्र अलग होता है और उनकी त्वचा उस पर भी प्रतिक्रिया देती है। इसलिए, अपनी त्वचा के संकेतों पर ध्यान दें और उसी के अनुसार अपनी स्किनकेयर रूटीन को ठीक करें। हर चरण में आपकी त्वचा की अलग-अलग ज़रूरतें होती हैं, इसलिए हर चरण के लिए अलग-अलग उत्पादों का इस्तेमाल फायदेमंद हो सकता है।

Disclaimer: इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद जानकारी केवल आपकी जानकारी के लिए है। हमेशा चिकित्सा या स्वास्थ्य संबंधी निर्णय लेने से पहले किसी एक्सपर्ट से सलाह लें।

एस्ट्रोजन त्वचा शुष्क ओवुलेशन पीरियड्स skin
Advertisment