Advertisment

Pregnancy Tips: प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में डिहाइड्रेशन के होते हैं ये संकेत

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में डिहाइड्रेशन की समस्या सामने आ सकती है, यह मां और बच्चे दोनों के लिए नुकसानदायक हो सकती है। इस लेख में आपको बताया जाएगा कि तीसरी तिमाही में डिहाइड्रेशन के लक्षण क्या हो सकते हैं, चलिए जानें।

author-image
Niharikaa Sharma
New Update
signs of dehydration during pregnancy

Image Credit- Freepik

These Are Signs Of Dehydration During The Third Trimester Of Pregnancy: प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में अनेक परिवर्तन आते हैं। विशेषत: प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में हार्मोन्स में बढ़ोतरी होती है। यह समस्याएं समय के साथ हल होती चली जाती हैं। लेकिन, दूसरी और तीसरी तिमाही में भी शारीरिक बदलाव होते रहते हैं, जो कई समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इसलिए, इस समय महिलाओं को अपनी सेहत पर ध्यान देना चाहिए। खासकर, तीसरी तिमाही में डिहाइड्रेशन की समस्या सामने आ सकती है। इस तरह की समस्याओं को उन्हें अनदेखा नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह मां और बच्चे दोनों के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इस लेख में आपको बताया जाएगा कि तीसरी तिमाही में डिहाइड्रेशन के लक्षण क्या हो सकते हैं, चलिए जानें।

Advertisment

प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में डिहाइड्रेशन के होते हैं ये संकेत

डार्क यूरिन

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में अगर महिला डिहाइड्रेशन का अनुभव करती है, तो उसका यूरिन का रंग डार्क हो जाता है और पेशाब की मात्रा भी कम हो सकती है। ऐसे में, अगर आपका यूरिन डार्क होता है तो यह एक संकेत हो सकता है कि आप डिहाइड्रेशन की समस्या से जूझ रही हैं।

Advertisment

चक्कर आना

प्रेग्नेंसी के दौरान मुंह सूखना एक सामान्य समस्या होती है। जब यह समस्या अधिक हो जाती है, तो इसे डिहाइड्रेशन से जोड़ा जाता है। डिहाइड्रेशन के कारण न केवल पेशाब की मात्रा बढ़ जाती है, बल्कि कई महिलाओं को गले का सूखना भी महसूस होता है और उन्हें चक्कर आने लगते हैं। चक्कर आने पर व्यक्ति को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है, क्योंकि वह अस्थिर भाव में आ सकता है और आंखों में धुंधलाहट महसूस होती है। प्रेग्नेंसी के तीसरे तिमाही में यह स्थिति अधिक चिंता का विषय है। ऐसे मामलों में महिला के गिरने का खतरा बढ़ जाता है और यह मिसकैरेज के लिए एक कारण बन सकता है।

4 बार से कम पेशाब

Advertisment

4 बार से कम पेशाब आना डिहाइड्रेशन का एक संकेत हो सकता है। डिहाइड्रेशन में शरीर में पानी की कमी होती है। प्रेग्नेंसी के तीसरे महीने में, गर्भ में बढ़ते शिशु के कारण ब्लैडर पर अधिक दबाव पड़ता है, जिससे महिलाओं को बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है। इसके बावजूद, पेशाब की मात्रा अधिक होती है, लेकिन यह भी आम रंग का होता है और कोई अन्य गंध नहीं होती। अगर प्रेग्नेंसी के दौरान डिहाइड्रेशन है, तो महिला 4 बार या उससे कम पेशाब कर सकती है।

यूरिन इंफेक्शन

प्रेग्नेंसी के तीसरे महीने में, अगर महिला कम यूरिन निकालती है, तो यह ब्लैडर इंफेक्शन का कारण हो सकता है। यह होता है क्योंकि अधिक पानी का सेवन नहीं किया जाता है और यूरिन ब्लैडर में जमा रहता है। इससे प्राइवेट पार्ट्स में जलन भी हो सकती है।

Advertisment

कब्ज की समस्या

कब्ज भी प्रेग्नेंसी के तीसरे तिमाही में आम समस्या है। इसका मुख्य कारण होता है बच्चे के भार से बाउल मूवमेंट में अटकाव आना। अगर महिला पानी की कमी का सामना कर रही है, तो यह समस्या और भी बढ़ सकती है। इससे बाउल मूवमेंट में परेशानी हो सकती है।

Disclaimer: इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद जानकारी केवल आपकी जानकारी के लिए है। हमेशा चिकित्सा या स्वास्थ्य संबंधी निर्णय लेने से पहले किसी एक्सपर्ट से सलाह लें।

Third Trimester Of Pregnancy हार्मोन्स Signs Of Dehydration यूरिन
Advertisment