Advertisment

अपने स्तनों के स्वास्थ्य को बनाए रखें: 3 आसान तरीके खुद करें Breast Self Examination

सदियों से हमारे शरीर और हमारी चिंताओं को महत्वहीन माना जाता रहा है। कुछ मिथकों को तोड़ने के लिए आइए देखें कि ब्रेस्ट सेल्फ एग्जामिनेशन करने के तरीके क्या हैं।

author-image
Vaishali Garg
New Update
 Breast Self Examination

3 Tips For Breast Self Examination :महिलाओं के शरीर और उनकी चिंताओं को सदियों से कमतर आंका जाता रहा है। यहां तक कि हमारे अपने शरीर रचना के बारे में भी जागरूकता की कमी है। क्लिटोरिस कहां होता है, हमारे स्तन में गांठ होने का क्या मतलब है - इन सब बातों को लेकर हम अनजान या लापरवाह हो सकती हैं। कुछ मिथकों को तोड़ने और अपने स्तन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में आपकी मदद करने के लिए, SheThePeople आपके लिए कुछ आसान टिप्स लेकर आया है, जिनसे आप अपने स्तनों को बेहतर तरीके से जान पाएंगी। 

Advertisment

निशा नाम की एक महिला एक वीडियो में हमें बता रही हैं कि ब्रेस्ट सेल्फ एग्जामिनेशन (Breast Self Examination - BSE) कैसा होता है और यह शुरुआती स्तर पर ब्रेस्ट कैंसर के संकेतों का पता लगाने का एक कारगर तरीका है। शारीरिक जांच और देखने के संयोजन से हम गांठ जैसी असामान्यताओं की पहचान कर सकती हैं। वह आगे बताती हैं कि अपने स्तनों को नियमित रूप से छूकर और देखकर उनके आकार और बनावट को जानना ही "ब्रेस्ट सेल्फ अवेयरनेस" कहलाता है। मैमोग्राम (Mammogram) कैंसर का पता लगाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक वैज्ञानिक परीक्षण है, जिससे गांठ महसूस होने से पहले ही उसका पता चल सकता है, लेकिन ब्रेस्ट सेल्फ एग्जामिनेशन से हमें अपने स्तनों के आकार और बनावट में होने वाले बदलावों का पता चलता है।

खुद करें ब्रेस्ट सेल्फ एग्जामिनेशन: 3 आसान स्टेप्स

सदियों से हमारे शरीर और हमारी चिंताओं को महत्वहीन माना जाता रहा है। कुछ मिथकों को तोड़ने के लिए आइए देखें कि ब्रेस्ट सेल्फ एग्जामिनेशन करने के तरीके क्या हैं।

Advertisment

निशा बताती हैं कि नहाते समय, शीशे के सामने खड़े होकर अपने तीन मध्यमा उंगलियों से अपने स्तनों और बगल के क्षेत्रों की गांठों के लिए अच्छी तरह से जांच करनी चाहिए। जांच के दौरान हल्का, मध्यम और फिर धीरे-धीरे मजबूत दबाव देना चाहिए। अपने शरीर के प्रति सजग रहने के लिए यह हर महीने करना चाहिए। वह यह भी कहती हैं कि जांच के दौरान किसी भी प्रकार की सूजन, रंग परिवर्तन या त्वचा की अनियमितताओं पर ध्यान दें, क्योंकि ये शुरुआती स्तर पर कैंसर के संकेत हो सकते हैं।

अगला तरीका है कि अपने स्तनों को ऊपर की तरफ उठाएं और उन्हें अपनी हथेली से दबाकर देखें कि कहीं कोई डिंपल (गड्ढा) या सिकुड़न तो नहीं है। एक अन्य उपयोगी तरीका है कि आप लेट जाएं, अपने दाहिने कंधे के नीचे एक तकिया रखें और अपने दाहिने हाथ को पीछे की ओर फैलाएं। अपने बाएं हाथ की तीन अंगुलियों से अपने दाहिने स्तन में किसी भी गांठ, सूजन या गांठों की जांच करें। वह यह भी सलाह देती हैं कि अपने निपल्स को दबाकर देखें कि कहीं कोई तरह का डिस्चार्ज (स्राव) तो नहीं हो रहा है, जो शुरुआती संकेत हो सकता है।

निशा सलाह देती हैं कि मासिक धर्म वाली महिलाओं को यह जांच पीरियड्स खत्म होने के कुछ दिनों बाद करनी चाहिए। वहीं, रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं के लिए हर महीने एक ही दिन, जैसे 1 तारीख या 15 तारीख को जांच करना जरूरी है। ये सेल्फ एग्जामिनेशन आपके शरीर के साथ तालमेल बिठाने का एक एहतियाती उपाय है, लेकिन अगर आपको कोई असामान्यता जैसे गांठ, सूजन या रंग में बदलाव पाया जाता है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करना और आगे की जांच कराना जरूरी है।

mammogram Breast Self Examination मासिक धर्म breast
Advertisment