Self Love: कभी निराशा घेरे तो खुद को तो अपनाएं 5 टिप्स

लगभग हर किसी के जीवन में एक मोड़ ऐसा आता है जब हम बहुत ज्यादा अकेले महसूस करने लगते हैं, हम बहुत ज्यादा डिमोटिवेट हो जाते हैं, तो आइए आज इस ब्लॉग में जानते हैं कि अपने आप से प्यार कैसे करें 5 टिप्स की मदद से-

Swati Bundela
16 Nov 2022
Self Love: कभी निराशा घेरे तो खुद को तो अपनाएं 5 टिप्स

Self Love

Self Love: कई बार ऐसा समय आता है जब हम अपना आत्मविश्वास और सारी उम्मीद खो बैठते हैं और खुद पर डाउट करने लगते हैं। हम खुद पर डाउट करते हैं कि क्या हम किसी काम को करने के लिए सक्षम है? क्या हममें उस काम को करने की काबिलियत है? ऐसे सवालों से जब हम घिर जाते हैं और खुद के बारे में नकारात्मक विचार मन में आने लगते हैं तो उस समय हमें जरूरत है कि हम अपने आप से प्यार करें और अपने आपको इंटरनल मोटिवेशन दें। इस ब्लॉग में जानेगें कि कैसे हमें नकारात्मक परिस्थितियों में भी खुद से प्यार जताना चाहिए।

5 Tips for loving yourself unconditionally- 

1. खुद को एहसास कराएं कि आप सक्षम है

कभी ऐसी परिस्थितियां आती है जब हम कुछ बहुत जरूरी काम कर रहे होते हैं और उस काम के दौरान हम अपना आत्मविश्वास खो बैठते हैं और खुद से सवाल करने लगते हैं कि शायद हम इस काम के काबिल नहीं है। अगर ऐसी परिस्थितियां आएं तो खुद को एहसास कराएं कि आप हर काम के लिए सक्षम है और कोई भी काम आपकी उम्मीद और आपके जज्बे से बड़ा नहीं है।

2. आप खुद के लिए एक इंस्पिरेशन है

जब आपकी बाहरी इंस्पिरेशन(inspiration) खत्म होने लगे और आपको लगे कि आप हर चीज में अपनी पूरी क्रिएटिविटी दिखा चुके हैं और अब कुछ नहीं बचा है। तो ऐसा नकारात्मक प्रभाव अपने पर पडने से पहले यह समझ ले कि आप खुद के लिए ही एक मोटिवेशन है, एक प्रेरणा है। क्योंकि एक वह समय भी था जब आपने जीरो से शुरू किया था और अब आप बहुत कुछ हासिल कर चुके हैं।

3. अपने लिए सीमाएं तय ना करें

आप अपने लिए कभी भी सीमाएं तय ना करें। जब आप खुद के लिए सीमाएं तय करते हैं तो आप अपने कॉन्फिडेंस(confidence) और अपने हार्ड वर्क को एक दायरे में सीमित करने लगते हैं। आप जितना अपने लिए सोचते हैं आप उससे भी कहीं अधिक कैपेबल है।

4. आपकी गलतियां आप को परिभाषित नहीं करती हैं

अगर आप अपनी गलतियों को पकड़ कर बैठ जाएंगे और अपने अतीत पर ही ध्यान देते रहेंगे तो यह आपकी उन्नति को रोकने लगेगा। आपकी गलतियां आपको पलिभाषित नहीं करती है बल्कि उन गलतियों के बाद आप कितनी हिम्मत करके दोबारा खड़े होते हैं इससे आपकी परिभाषा तय होती है।

5. आप और बेहतर कर सकते हैं

कभी भी किसी अचीवमेंट(achievement) को पा लेने के बाद अपनी सीमाओं को तय नहीं करना है। आप हमेशा और बेहतर कर सकते हैं। खुद के बारे में अच्छा सोचना, अच्छा बोलना और खुद से प्यार करना बहुत जरूरी है लेकिन आपको यह सब ओवर भी नहीं करना है।

अनुशंसित लेख