Advertisment

Irregular Periods: क्या कम नींद से बढ़ता है अनियमित पीरियड्स का खतरा

हैल्थ: रिसर्च और रिपोर्ट्स कहती हैं कि यह सच है। अपर्याप्त नींद कुछ महिलाओं में अनियमित पीरियड सायकल के खतरे को बढ़ा सकती है। आइये इस ब्लॉग में जानते हैं कम नींद कैसे पीरियड सायकल को अनियमित कर सकती है।

author-image
Priya Singh
New Update
Risk Of Irregular Periods(Family Education)

Does Less Sleep Increase The Risk Of Irregular Periods (Image Credit - Family Education)

Does Less Sleep Increase The Risk Of Irregular Periods: अक्सर कम सोने से लोगों को अलग-अलग तरह की समस्याएँ होती हैं। एक बेहतर नींद हमारी बॉडी को रिलैक्स फील कराती हैं साथ ही कई तरह की समस्याओं से भी हमारी रक्षा करती हैं। लेकिन अगर हम लगातार कम सोते हैं तो ऐसे में हमें कई समस्याएं होने लगती हैं। कम नींद की समस्या महिलाओं में होने वाले मेन्स्त्रुअल सायकल से भी जुडी हुई है। आइये अधिक जानते हैं इसके विषय में-

Advertisment

क्या कम नींद से बढ़ता है अनियमित पीरियड का खतरा 

अगर बात की जाए कि क्या महिलाओं में अनियमित पीरियड्स की समस्या नींद कम लेने की वजह से हो सकती है। तो रिसर्च और रिपोर्ट्स कहती हैं कि यह सच है। हाँ, अपर्याप्त नींद कुछ महिलाओं में अनियमित पीरियड सायकल के खतरे को बढ़ा सकती है। नींद शरीर में तमाम हार्मोनल प्रक्रियाओं को मैनेज करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जिसमें पीरियड्स सायकल को नियंत्रित करने वाली प्रक्रियाएं भी शामिल हैं। आइये जानते हैं कम नींद कैसे पीरियड सायकल को अनियमित कर सकती है। 

1. हार्मोनल असंतुलन 

Advertisment

नींद की कमी शरीर में हार्मोन के संतुलन में बाधा उत्पन्न करती है। विशेष रूप से कोर्टिसोल और मेलाटोनिन। ये व्यवधान, बदले में, अन्य हार्मोन जैसे ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन और कूप-उत्तेजक हार्मोन को प्रभावित करते हैं। जो मेन्स्त्रुअल सायकल के लिए आवश्यक हैं।

2. अनियमित ओव्यूलेशन 

नींद की गड़बड़ी से अनियमित ओव्यूलेशन हो सकता है। जो मासिक धर्म की नियमितता में एक महत्वपूर्ण कारक है। जब ओव्यूलेशन अनियमित या अनुपस्थित होता है। तो इसका परिणाम मिस्ड पीरियड्स या अनियमित मेन्स्त्रुअल सायकल होता है।

Advertisment

3. तनाव और सूजन 

लगातार नींद की कमी से शरीर में तनाव का स्तर और सूजन बढ़ती है। जो दोनों हार्मोनल संतुलन को प्रभावित कर सकते हैं और मेन्स्त्रुअल सायकल को बाधित कर सकते हैं।

4. वजन और मेटाबॉलिज्म 

Advertisment

खराब नींद भूख और मेटाबॉलिज्म को भी प्रभावित करती है। वजन बढ़ना या शरीर के वजन में उतार-चढ़ाव हार्मोन के लेवल को प्रभावित करता है और इसकी वजह से मासिक धर्म की नियमितता पर प्रभाव पड़ता है।

पीरियड्स के दौरान बेहतर नींद पाने के लिए करें ये उपाय

1. हीट थेरेपी लें

Advertisment

पीरियड्स के दौरान अगर आपको सोते समय बहुत ज्यादा क्रैंप होते हैं तो आपको हीट थेरेपी का इस्तेमाल करना चाहिए। सोने से पहले आपको हीटिंग पैड का प्रयोग करना चाहिए ताकि दर्द थोड़ा कम हो और आपको आसानी से नींद आ जाए।

2. रिलैक्सेशन

सोने से पहले रिलैक्सेशन बहुत जरूरी है ऐसा करने से आपको बेहतर नींद लेने में मदद मिलेगी। इसके लिए आप चाहे तो लंबी और गहरी सांसे लेना, मसल्स को रिलैक्स करना और स्ट्रेस को कम करने के लिए मेडिटेशन और हल्का योग कर सकती हैं।

Advertisment

3. हाइड्रेट रहें

पीरियड के दौरान आपको खुद को हाइड्रेटेड रखना चाहिए। इससे आपको आराम मिलेगा और आपका पेट फूला हुआ ज्यादा नहीं महसूस होगा। ऐसी समस्याएं न होने पर आपको अच्छी नींद आएगी।

4. स्लीप शेड्यूल बना लें 

अगर आप रोजाना एक नियमित स्लीपिंग शेड्यूल बना लेती हैं तो आपको पीरियड्स सायकल के दौरान तो मदद मिलेगी ही साथ ही नार्मल सोते समय भी नींद आने में मदद मिलेगी।

कम नींद नियमित पीरियड irregular periods Less Sleep
Advertisment