Advertisment

Emotional Exhaustion के 7 संकेत जो आपको अनदेखा नहीं करने चाहिए

भावनात्मक थकावट एक गंभीर समस्या है जो हमारे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डाल सकती है। जब हम लंबे समय तक तनाव, चिंता और निरंतर दबाव में रहते हैं, तो हमारा मानसिक स्वास्थ्य कमजोर हो सकता है और हम भावनात्मक रूप से थक सकते हैं।

author-image
Dibya Debasmita Pradhan
New Update
Emotional exhaustion

Image Credit: Freepik

7 Signs Of Emotional Exhaustion: भावनात्मक थकावट एक गंभीर समस्या है जो हमारे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डाल सकती है। जब हम लंबे समय तक तनाव, चिंता और निरंतर दबाव में रहते हैं, तो हमारा मानसिक स्वास्थ्य कमजोर हो सकता है और हम भावनात्मक रूप से थक सकते हैं। भावनात्मक थकावट को पहचानना और इसे सुधारने के उपाय करना बहुत जरूरी है। अपने आप को समय दें, अपने दोस्तों और परिवार से बात करें और अपनी मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

Advertisment

Emotional Exhaustion के 7 संकेत जो आपको अनदेखा नहीं करने चाहिए

1. आप लोगों को दूर धकेलते हैं

जब हम भावनात्मक रूप से थक जाते हैं, तो हम अपने आस-पास के लोगों से दूरी बनाने लगते हैं। हमें लगता है कि हम किसी से बात करने के योग्य नहीं हैं या हम उन्हें अपनी समस्याओं में नहीं उलझाना चाहते। इस वजह से हम अपने करीबी दोस्तों और परिवार से भी दूर हो जाते हैं।

Advertisment

2. आपको निराशा महसूस होती है

भावनात्मक थकावट का एक प्रमुख संकेत यह है कि हमें निराशा महसूस होती है। हमें लगता है कि हमारी सभी कोशिशें व्यर्थ जा रही हैं और हम किसी भी समस्या का समाधान नहीं कर पा रहे हैं। यह निराशा हमारे आत्मविश्वास को कमजोर कर देती है और हम अपने जीवन के प्रति निराश हो जाते हैं।

3. आप खुद को असफल मानते हैं

Advertisment

जब हम भावनात्मक रूप से थक जाते हैं, तो हम खुद को असफल मानने लगते हैं। हमें लगता है कि हम किसी भी काम में सफल नहीं हो सकते और हमारे जीवन में कुछ भी अच्छा नहीं हो सकता। यह सोच हमें और अधिक निराशा और हताशा की ओर धकेलती है।

4. आप अपने आप से जुड़ा महसूस नहीं करते

भावनात्मक थकावट के कारण हम अपने आप से भी दूर हो जाते हैं। हमें लगता है कि हम अपनी पहचान खो चुके हैं और हमें पता नहीं होता कि हम वास्तव में कौन हैं। यह हमें अपने जीवन में अर्थहीनता का अनुभव कराता है।

Advertisment

5. आपको ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है

भावनात्मक थकावट के कारण हमारा ध्यान भटकता रहता है और हमें किसी भी काम में ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है। हमें छोटी-छोटी बातें भी याद नहीं रहतीं और हम चीजों को भूलने लगते हैं। यह हमारे दैनिक जीवन को प्रभावित करता है और हमें असहज बना देता है।

6. आप अक्सर चिड़चिड़े या बेवजह गुस्से में रहते हैं

Advertisment

भावनात्मक थकावट के कारण हम अक्सर चिड़चिड़े या बेवजह गुस्से में रहते हैं। हमें छोटी-छोटी बातों पर भी गुस्सा आ जाता है और हम अपने आस-पास के लोगों से नाराज हो जाते हैं। यह हमारे रिश्तों को भी प्रभावित करता है।

7. आप चीजों को भूलने लगते हैं

भावनात्मक थकावट के कारण हमारा दिमाग सही से काम नहीं करता और हम चीजों को भूलने लगते हैं। हमें अपनी महत्वपूर्ण बातें भी याद नहीं रहतीं और हम बार-बार अपनी चीजें खो देते हैं। यह हमारे जीवन को और अधिक कठिन बना देता है।

 

Disclaimer: इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद जानकारी केवल आपकी जानकारी के लिए है। हमेशा चिकित्सा या स्वास्थ्य संबंधी निर्णय लेने से पहले किसी एक्सपर्ट से सलाह लें।

emotional exhaustion बेवजह गुस्से जीवन में अर्थहीनता दूरी बनाने लगते
Advertisment